कुंवारा लण्ड चूत चड ( hindi sexy story )

कुंवारा लण्ड चूत चड ( hindi sexy story )

मेरा नाम नीरव है, मैं 5 फ़ुट 8 इन्च लम्बा हूँ, मेरी उम्र 21 साल है, मैं भरुच, गुजरात का रहने वाला हूँ। मैं बहुत सालों से अन्तर्वासना पढ़ रहा हूँ। मुझे सेक्स की काहानियाँ पढ़ना और फिर मुठ्ठ मारना बहुत अच्छा लगता है। लेकिन मेरा नसीब बहुत खराब है, गुजरात में रह कर भी मुझे कोई भी लड़की लिफ़्ट नहीं देती है। मैं ऐसा नहीं है कि अच्छा नहीं दिखता हूँ, पर मैं स्वभाव से बहुत शर्मीला लड़का हूँ। इसी वजह से मैं आज तक किसी भी लड़की के सम्पर्क में नहीं आ सका और ना ही कभी मैंने चुदाई का आनन्द लिया। मेरा लण्ड अभी तक कुंवारा ही है … सच कहता हूँ, मैंने आज तक किसी भी चूत के दर्शन तक नहीं किये। पर यह जरूर कह सकता हूँ कि दुनिया की किसी भी लड़की या महिला को मैं भरपूर यौन सुख दे सकता हूँ और उसे पूर्ण सन्तुष्टि दूंगा, उसका वफ़ादार बना रहूंगा, बदनामी कोई नहीं चाहता है, फिर मैं तो एक बहुत शालीन उच्च परिवार का सभ्य लड़का हूँ, पढ़ा लिखा और समझदार लड़का हूँ।
मैं आपको एक सच्ची घटना बताता हूँ। उस दिन मेरे लण्ड का कुंवारापन टूटने ही वाला था पर हाय री किस्मत … नहीं टूटा। मेरा दिल टूट गया, मैं तड़प उठा। मेरी आंखो में आंसू तक आ गये।
मुझे बड़ी चूचियों वाली लड़की, पतली कमर और बड़ी गाण्ड वाली लड़की बहुत सेक्सी लगती है। बस मेरा दिल उसे चोदने को करने लगता है। ऐसी ही एक सेक्सी लड़की मेरी पड़ोस में रहती थी। उसका नाम रेशमा था। वो मुझे बहुत ही सुन्दर लगती थी। उसका फ़िगर 36-34-36 था। मेरी उसके साथ बहुत अच्छी दोस्ती थी। वो मुझे अच्छी भी लगती थी। उसके नाम की मैं मुठ्ठ भी मारा करता था। उसे चोदने के सपने मैं रातों को देखा करता था। मैं उसे चोदने का मौका भी ढूंढता रहता था। पर या तो मुझे मौका मिलता नहीं था या हो सकता है कि वो मुझे ऐसा मौका देना ही नहीं चाहती थी। वो जितना मुझसे दूर रहने की कोशिश करती थी, उसमें मुझे और अधिक कशिश लगने लगती थी, वो और भी अधिक सुन्दर और सेक्सी लगने थी। मन ही मन में मैं तड़प उठता था।
एक दिन उसने मुझे मोबाइल पर कहा- आज दिन भर के लिये मेरे घर वाले पास के गांव को जाने वाले हैं, वे लोग शाम तक आयेंगे, यदि आपके पास समय हो तो यहीं आ जाओ, बातें करेंगे।
मैं उसके घर चला गया। वो उस दिन एकदम अकेली थी। मैं जानता था कि वो मुझे पसन्द करती थी। उसने मुझे बेडरूम में बुला लिया था, वहाँ रेशमा कोई अपना काम कर रही थी। उसने मुझे वही बिस्तर पर बैठने को कहा। काम करके वो मेरे पास बिस्तर पर आकर बैठ गई। हम दोनों बहुत पास में बैठे थे। हम दोनों खूब हंस हंस कर बाते कर रहे थे कि अचानक हंसी हंसी में उसने मेरी जांघ पर हाथ दे मारा। मेरा शरीर एक दम से झनझना सा गया। फिर मैंने भी एक बार उसकी कोमल और चिकनी जांघों पर हाथ मारा तो वो कुछ नहीं बोली, उल्टे ही वो और चहकने लगी। बातों ही बातों में उसने मुझे अपनी बाहों में जकड़ लिया और मेरे गाल पर एक चुम्मा भी ले लिया। फिर वो अचानक से शरमा गई। मैंने जल्दी से उसका चेहरा अपने हाथों में लिया और उसके होंठ चूम लिये। उसने कोई विरोध नहीं किया बल्कि उसने भी प्रतिउत्तर में मेरे होंठ से अपने होंठ चिपका लिये। मुझे इस तरह से यह चुम्बन करना बहुत अच्छा लगा था। फिर हम दोनों नशे की सी हालत में लगभग 15 मिनट तक एक दूसरे को चूमते रहे।
पर इस मदहोशी के आलम में मेरा लण्ड बेकाबू होने लगा। उसने धीरे से शरमा कर मेरा लण्ड पकड़ लिया और फिर उसके मुख से आह निकल पड़ी। मैंने रेशमा को और पास चिपका लिया और धीरे धीरे उसे बिस्तर पर लेटा कर उसके ऊपर चढ़ गया। मैं उसके होंठो को चूमते हुये उसके निचले भाग की तरफ़ बढने लगा। पहले गले पर, फिर और … और भी नीचे और फिर उसकी उभरी हुई छाती पर।
उसकी सांसें तेज हो उठी, उसकी छाती तेजी से ऊपर नीचे होने लगी थी। उसकी बड़ी बड़ी चूचियों को मैं एक बार तो देखता ही रह गया फिर हौले से उसे दबा दिया, फिर उसकी पूरी चूचियों पर हाथ फ़िरा फ़िरा कर उसे दबाने लगा। उसके मुख से आनन्द भरी सिसकारियाँ निकलने लगी।
उसे बहुत अच्छा लग रहा था। अब वो मेरे सर को पकड़ कर अपनी चूचियों पर दबाने लगी। अब मैं ब्लाऊज़ से नीचे उसकी नाभि पर आ गया। उसमे मैंने अपनी जीभ नाभी में डाल कर घुमाई। वो अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह कर उठी। फिर मैं उसकी साड़ी को खिसकाते हुये उसकी चूत की तरफ़ बढ चला। साड़ी के ऊपर से ही मैंने उसकी चूत को चूमा। उसके मुख से उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़ की आवाज निकल गई।
मैं उसकी जांघें दबा कर उसकी चूत को चूमने लगा। फिर मैंने जल्दी से उसकी साड़ी और पेटीकोट उलट कर कमर पर डाल दिया। उसे नीचे से नंगी कर दिया। वो सिमट सी गई। उसकी नंगी चूत के बीच मेरा सर दब गया, पर जीभ उसकी चूत तक पहुँच ही गई थी। वो तड़प उठी।
मैंने उसकी मदद से उसकी साड़ी और पेटीकोट उतार दिया था। उसकी चूत पर छोटे छोटे नरम बाल थे। मेरे उसकी चूत चूमने से वो पागल सी हो उठी थी, और बार बार वो अपनी चूत चुदाई के अन्दाज में उछाल रही थी। उसकी चूत की महक से मैं मदहोश हो चुका था। बस उसकी चूत जोर जोर से चूसने लगा था। उसने भी मेरा कड़क लण्ड पकड़ कर जोर जोर से दबाना और मुठ्ठ मारना शुरू कर दिया था।
मैं अपने होश खो बैठा। उसके मुख में मैंने अपना लौड़ा घुसेड़ दिया और उसे धक्के मारने लगा। वो मुझे बार बार हटाती रही फिर उसने मुझे पकड़ कर जोर से अपने ऊपर लेकर चिपटा लिया और अपनी दोनों टांगें ऊपर उठा दी और मेरे कठोर लण्ड को अपनी चूत पर दबाने लगी। मैंने अपने लण्ड को दो बार चूत पर जोर से रगड़ दिया।
…… और फिर अचानक ही मेरे होश उड़ गये। घर के बाहर कुछ लोगों के बात करने की आवाजें आने लगी। मैं और रेशमा एकदम से घबरा गये।
'हाय रे मेरे भगवान ! यह कैसी आवाज?'
सारी रंगत हमारे मुख से उड़ चुकी थी। मुझे विश्वास ही नहीं हो रहा था कि यह सब कैसे हो गया और कौन आ गया । मेरे तो पसीने छूटने लगे।
'रेशमा ये कौन लोग है, अब क्या करें?' मुझे काटो तो खून नहीं।
रेशमा ने संभलते हुये कहा- कपड़े पहनो और जैसा मैं कहती हूँ, करो !
'ओह हां हां… जरूर'
मैंने जितनी देर में कपड़े पहने, उसने फ़्रिज से कोल्ड ड्रिंक और कुछ नमकीन लाकर बैठक में रख दी। मैं तुरन्त ही एक मेहमान की तरह से गिलास उठा कर नमकीन खाने लगा।
फिर वो दरवाजा खोल कर बाहर आई। बाहर दो तीन पुरुष और महिलायें खड़ी थी। रेशमा को देख कर वो पुरूष तो आगे की ओर बढ़ गये और महिलायें कुछ सामान खोल कर वहीं बैठ गई और सामान के बारे में समझाने लगी थी। वो कोई सेल्समेन वगैरह थे। उन्होंने अन्दर झांक कर मुझे बैठे हुए देखा और मुझे भी सब कुछ देखने के लिये बुलाया। मैं उस समय डरा हुआ था, अब इन सब बातों को देख कर खीज सा गया था। मैंने कुछ नहीं कहा और बाहर जाने लगा। रेशमा मुस्करा उठी।
शाम को उसके घर वाले आ गये थे। मैं अपने लण्ड को हाथों में लिये बस मसलता ही रह गया हमेशा की तरह। मेरा लण्ड कुंवारा ही रह गया। चूत की मात्र खुशबू ही मिल पाई थी मेरे लण्ड को।
मैं मजबूरी से निराश हो गया। मेरा मन तड़प उठा था। क्या मेरा यह अदना सा 6 इन्च का लण्ड कुंवारा ही रह जायेगा?


0 comments:

Post a Comment

 

© 2011 Sexy Urdu And Hindi Font Stories - Designed by Mukund | ToS | Privacy Policy | Sitemap

About Us | Contact Us | Write For Us